इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम क्या है। इंडियन मिसाइल्स से क्यों थर्राता है दुश्मन

इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम क्या है। इंडियन मिसाइल्स से क्यों थर्राता है दुश्मन

इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम क्या है। इंडियन मिसाइल्स से क्यों थर्राता है दुश्मन

इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम को मुख्य तौर पर DRDO (Defence Research and Development Organisation )  के अन्तरगत चलाया जा रहा है। भारत के रक्षा क्षेत्र में DRDO का बहुत ही बड़ा योगदान है। drdo ने ही इस मिशन को पूरी तरह सक्सेस बनाने मे भरपूर शक्ति का प्रदर्शन जारी रखा और आज वह काफी हद तक सक्सेस भी हो चुका है। आज DRDO ने भारत को उस जगह पहुंचा दिया है की दुश्मन आंख उठाकर  देखने से भी कतराता है। आज का भारत शक्तिशाली भारत है। जो किसी भी दुश्मन के छक्के छुड़ा सकता है।

indian misiles programme kya hai .

इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम टेक्नोलॉजी क्या है। इंडियन मिसाइल्स सिस्टम किस हद तक सुरक्षित है।

भारत सरकार पिछेले कई सालों से इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम  ya fir इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम kaha jata hai परमाणु मिसाइल्स पर काम कर रही है। जो आंख झपकते ही दुश्मन का सर्वनाश करदे , उसे अपने घुटनों के बल खड़ा करदे ऐसी टेक्नोलॉजी को इंडियन मिसाइल्स टेक्नोलॉजी कहा जाता है और यदि सुरक्षा की बात करें तो भारत आज विश्व की उन महाशक्ति देशों से कम नहीं है।  आज भारत अमेरिका , रशिया , चीन , इंग्लैंड, फ्रांस, एवं इस्राइल जैसे देशों की कतार में आकर खड़ा हो चुका है। चीन और पाकिस्तान की हेकड़ी बंध हो चुकी है। भारत अगले दस सालों में महाशक्ति बनकर उभरा है। औ अगले दस सालों में इन महाशक्तियों  को पछाड़कर आगे निकलने की सोच पर काम कर रहा है।

इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम

इंडियन मिसाइल्स टेक्नोलॉजी क्या है। इंडियन मिसाइल्स सिस्टम किस हद तक सुरक्षित है।-इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम kya hai 

यूँ तो भारत अभी इन महाशक्तियों से कुछ कमजोर नजर आता है। पर युद्ध की स्थिति में भारत भारत हुकुम का एक्का साबित हो सकता है।  ध्वनि की रफ्तार से तीन गुना तेज दौड़ती है जो अब तक विश्व  में , किसी भी देश ने इस प्रकार की मिसाइल्स का निर्माण नहीं किया है। इस मिसाइल का नाम है ब्रह्मोस जो भारत की ब्रहपुत्र और रूस की मोस्को नदी के नाम पर संयुक्त रूप से बनाया गया है। अभी इसका उत्पादन भारत मे ही हो रहा है। ब्रह्मोस मिसाइल की रफ्तार 300 km/per hour है। ब्रह्मोस एक सुपर सोनिक मिसाइल है। अभी इसके नई version पर काम चल रहा है। जो करीब 1000 km दूरी पार कर सकेगी। और ध्वनि की रफ्तार से आठ गुना तेज दौड़ सकती है। विषम परिस्थितियों में भारत सबसे पहले ब्रह्मोस मिसाइल को प्रयोग करना चाहेगी।  भारत के सभी हवाई अड्डे तबाह हो जाए तो भी ब्रह्मोस पलटवार करके दुश्मन को भस्म करने की ताकत रखती है। ब्रह्मोस को हवा , भूमि और पानी से भी छोड़ा जा सकता है। यही इसकी सबसे बड़ी खासियत है। यदि दुश्मन हमारे सभी हथियार , खत्म करदे तो भी कुछ नहीं बिगाड़ सकता क्यों कि ब्रह्मोस को गेम चेंजर भी कहा जाता है।

seo kaise kare apni website ka

इंडियन मिसाइल्स पावर इन २०२० -इंडियन मिसाइल्स डिफेंस सिस्टम ।-इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम kya hai 

इस मिसाइल के अलावा भारत के पास औऱ भी ख़तरनाक मिसाइल्स का जखीरा है जिसके बारे में एक एक करके बतातेंगे। जिनमे आकाश मिसाइल, पृथि मिसाइल्स, अग्नि सीरीज मिसाइल, के4, के5, त्रिशूल, काली, और भी बहुत सी मिसाइल है जिनके बारे में बताने वाला हूं। इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम क्या है। इंडियन मिसाइल्स से क्यों थर्राता है दुश्मन  iske kai karan hai post ko puri padhe.

इंडियन मिसाइल्स लिस्ट विथ रेंज-इंडियन मिसाइल्स न्यूज़ इन हिंदी

1:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम आकाश

आकाश मिसाइल्स DRDO द्वारा बनाई गई स्वदेशी मिसाइल्स है। इसकी गर्जना से  दुश्मन भी कांप जाते है। यह जमीन से आकाश में मार कर सकती है। यह दुश्मनों के हवाई जहाज, उनकी मिसाइल्स etc. को एक झटके में तबाह कर सकती है। इसे ज्यादातर बोर्डर इलाके में तैनात किया जाता है। यह 25 to 30 किलो मीटर के एरिया में दुश्मन के किसी भी हथियार को नष्ट करने में सक्षम है। अचानक से हुए हमलों में इसका इस्तेमाल किया जाता है।

2:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम नाग

नाग मिसाइल्स को भी भारत सरकार के द्वारा बनाया गया है। यह स्वदेशी टैंक भेदी आधुनिक व तीसरी पीढ़ी की मिसाइल है। इस मिसाइल का निर्माण DRDO के द्वारा किया गया है।

hackers se website ko kaise bachaye

3:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम अमोघ

अमोघ मिसाइल्स दूसरी पीढ़ी की मिसाइल्स है इसका इस्तेमाल नाग मिसाइल की तरह टैंक को नष्ट करने के लिए किया जाता है। इसका निर्माण भारत डायनेमिक्स के अंतर्गत दक्षिण भारत मे किया जा रहा है। यह दुश्मन पर 2.5 km की दूरी से वार कर सकती है। यह बहुत ही घातक व सटीकता से वार करती है।

4:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम पृथ्वी 1

पृथि मिसाइल की मारक क्षमता 150 किलो मीटर तक होती है। यह जमीन to जमीन पर वार करती है। इसे 25 किलोमीटर दूर से दागा जा सकता है। यह 1000 किलो बारूद जा वहन कर सकती है। यह स्वदेशी मिसाइल है इसे राकेट लॉन्चर से लॉन्च किया जाता है।

5:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम पृथ्वी 2

यह मिसाइल पृथ्वी 1 का new वर्शन है यह 250 to 300 किलो मीटर तक वार कर सकती है। यह 500 to 600 किलो ग्राम हथियार परमाणु या फिर अणु बम का वहन कर सकती है। 1995 के आस पास इसे भारतीय सेना को सौंप जा चुका है।  अभी हाल में इसकी क्षमता को 400 km तक कर दिया है। यह सॉलिड ईंधन से न चलकर द्रव्य ईंधन पर काम करती है।

6:-इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम पृथ्वी 3

पृथ्वी मिसाइल 3 सतह से सतह पर वार करनेवाली मिसाइल है।इसको दो चरणों मे बाटा जा सकता है। इसमें एक चरण में ईंधन सॉलिड और दूसरे चरण में द्रव्य ईंधन का प्रयोग होता है।

prakash shanshlation kya hai 

7:-  इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम अग्नि 1

अग्नि 1 मिसाइल्स सतह से सतह पर वार करने में सक्षम होती है। यह 750 to 1000 km तक सटीक वार कर सकती है। इसका भार 12 से 15 टन होता है। यह परमाणु बम वाहक मानी जाती है। अग्नि सीरीज मिसाइल्स में सटीकता सबसे बड़ी जीत है। इसका परीक्षण 2002 में हुआ था। इसे कहीं से भी छोड़ा जा सकता है।

8:-  इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम अग्नि 2

indian missile defence system विश्व भर में पहचान बना चुका है। अग्नि 2 मध्यम वर्गीय बैलेस्टिक मिसाइल है। यह 3000 km तक दुश्मन का खात्मा करने में सक्षम है। यह करीब 20 मीटर लंबी और 1.5 मीटर चौड़ी है।

9:-  इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम अग्नि 3

अग्नि 3 भी मध्यम वर्गीय बैलेस्टिक मिसाइल्स के रूप में जानी जाती है। इसे DRDO द्वारा बनाया गया है। इसकी मारक  क्षमता 3500 km से लेकर 5000 km मानी जाती है।

10.  इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम अग्नि 4

अग्नि 4 भी माध्यम रेंज की बैलेस्टिक मिसाइल है। जिसका निर्माण DRDO द्वारा किया गया है। इसकी जड़ में पूरा पाकिस्तान व आधा चीन आ जाता है।

11:-  इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम अग्नि 5

saur urja kya hai -solar energy kise kahte hain 

अग्नि 5 भारत के पास अभी तक कि सबसे घातक मिसाइल मानी जाती है। इसकी रेंज 5000 से लेकर 8000 km तक है। यह मिसाइल केवल चीन के लिए बनी है। बाकी पाकिस्तान जैसे देशों के लिए तो इसके निचले लेवल ही काफी है।  इसकी की रेंज में पूरा चीन व यूरोपीय देश व ऑस्ट्रेलिया  भी आ जाता है। यह 1000 किलो ग्राम परमाणु अंधियार लेकर चल सकती है। इसे इंटरकॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल्स ( ICBM ) भी कहा जाता है। यह एक महादीप से दूसरे महादीप पर निशाना लगा सकती है। यह आधी घंटे में 5000 km दूर तक निशाना साध सकती है। यह बहुत ही पॉवरफुल मिसाइल्स है। इसका निशाना दुश्मन के छके छुड़ा सकता है।

इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम

12:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम धनुष

इस मिसाइल्स का निर्माण भारत सरकार के अंतर्गत हुआ है। इसकी मारक क्षमता 500 km/ph है। यह बारूद और परमाणु हथियार ढोने में सक्षम है। यह करीब 9 मीटर लम्बी और 700 kg तक परमाणु हथियार ले जा सकती है। यह पृथ्वी मिसाइल का ही एक वर्शन है।

13:-  इंडियन मिसाइल्स सागरिका

सागरिका मिसाइल्स की रेंज 700 km है। यह परमाणु अथियार ढोने में सक्षम है। इसे पनडुब्बी के द्वारा छोड़ा जा सकता है। इसे भारतीय सेना में शामिल कर लिया गया है।

14:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम K-4

के-4 मिसाइल्स परमाणु क्षमता से लैस है। के-4 मिसाइल्स को  पनडुब्बी से दागा जा सकता है। के-4 की  रेंज ( मारक क्षमता ) 3500 km है। यह बहुत ही सटीक वार करती है। इसका परीक्षण करीब 2010 में एक पनडुब्बी के द्वारा किया गया। अग्नि 3 मिसाइल्स को जब अरिहंत में फिट किया गया तो उसमें कुछ तकनीकी परोब्लेम का सामना करना पड़ा। इस प्रॉब्लम को सॉल्व करने के लिए ही के-4 का आविष्कार करना पड़ा। के-4 मिसाइल्स को अग्नि 3 की तरह बहुत ही घातक रूप दिया गया है। इस मिसाइल की मदद से दुश्मन को ईंट का जवाब पत्थर से दिया जा सकता है।

website traffic kaise badhaye

के-4 का अडवांस version के-5 पर भी अभी काम चल रहा है। जो जल्द ही इंडियन आर्मी का हिस्सा होगी।k-5 की मारक क्षमता 5000 किलो मीटर के आसपास रहेगी।

15:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम शौर्य

शौर्य मिसाइल जमीन से जमीन पर वार करने वाली मध्यम दूरी की मिसाइल्स है। इसकी मारक क्षमता 800 km to 1900 km तक मानी जाती है। यह परमाणु हथियारों का वहन करने में सक्षम है। इसे DRDO के द्वारा बनाया गया है। शौर्य मिसाइल्स इंडियन मिसाइल डिफेंस सिस्टम का  एक हिस्सा है।

16:-  इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम ब्रहमोस

यह मिसाइल्स इंडियन आर्मी के लिए बहुत ही महत्व की है इसलिए शार्ट में बताना चाहूँगा।

ब्राह्मोश मिसाइल्स जी मारक क्षमता 290 km है। इसकी रफ्तार ध्वनि की गति से तीन गुनी ज्यादा है। इसे जमीन, आकाश और समुन्द्र से भी दाग जा सकता है। यह एक इंटरसेप्टर मिसाइल्स है। इसके द्वारा दुश्मन के किसी भी मिसाइल्स और हवाई जहाज को नष्ट किया जा सकता है।  इसका नाम भारत की बरह्मपुत्र और rush की मस्कवा पर संयुक्त रूप से रखा गया है। यह दुनिया की नंबर one मिसाइल मानी जाती है। ब्राह्मोश मिसाइल से परमाणु हथियार को ले जाया जा सकता है। एवं उसे दागा भी जा सकता है। दुश्मन को पता भी न चले उससे पहले ही दुश्मन के ख़ेमे में हाहाकार मचा देती  है। वर्ल्ड मिसाइल टेक्नोलॉजी में ब्रह्मोश इंडिया को नंबर वन पर ले जाती है। दुनिया के पास ऐसी कोई मिसाइल्स नहीं है जो ब्रह्मोश से टक्कर ले सके। अमेरिका व rusia जैसे देशों की वो इंटरसेप्टर मिसाइल्स भी ब्रह्मोश के सामने बौनी लगती है।

ब्रह्मोश के new virsion:- भारत सरकार ब्रह्मोश मिसाइल्स के कई virsion पर काम कर रही है जो इससे कई गुना खरनाक साबित होगी, इनकी रफ्तार में कई गुना इजाफा होगा, ब्रह्मोश 2 की रफ्तार करीब 7 मैक है जंहा तक दुनिया को पहुचने में 20 साल लग जाएंगे। ब्रह्मोश A, ब्रह्मोश NG, ब्रह्मोश 2 ये ब्रह्मोश मिसाइल्स के आने वाले virsion हैं। जिनके बारे में हैम बाद में विस्तार से बात करेंगे।

17 :- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम अस्त्र

भारत सरकार के द्वारा बनाई गई यह पहली मिसाइल्स है ये हवा से हवा में मार करती है। यह 100 km तक दुश्मन के हवाई जहाज व मिसाइल्स को नष्ट करने में सक्षम है।

18 :- इंडियन मिसाइल्स विकिरणरोधी

ये मिसाइल्स मुख्य तौर पर दुशमन के रडार को नष्ट करने में सक्षम है। इसे DRDO के द्वारा बनाया गया है।

19:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम निर्भय

निर्भय मिसाइल्स एक क्रूज मिसाइल्स है। इसे सबसोनिक क्रूज मिसाइल्स भी कहते हैं। यह किसी भी मौसम में दुश्मन पर नजर गड़ाए रखती है। इसे बहुत ही काम लागत में तैयार किया जा सकता है। इसकी मारक क्षमता 1000 km तक है। ये 1500 से 2000 kg वजन परमाणु हथियार ढोने में सक्षम है।

20 :- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम प्रहार

प्रहार मिसाइल्स बहुत ही कम लागत, खराब मौसम में काम , सटीकता से वार करने में सक्षम है। इसे मोबाइल लॉन्चर से छोड़ा जा सकता है। यह एक साथ किसी भी दिशा में 6 निशाने लगा सकती है। यह भारतीय सेना की अपेक्षाओं को पूरा करने में सक्षम है। इसे रक्षा अनुसंधान एवं विकाश संगठन द्वारा बनाया गया है।

21:-  इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम हेलिना

यह नाग मिसाइल्स का तीसरी पीढ़ी की मिसाइल्स है इसे 10 km तक कहीं से भी दागा जा सकता है। इसे हल्के व भारी कॉम्बेट हेलीकाप्टर  से छोड़ा जा सकता है। यह 50 kg बारूद का वहन कर सकता है। ये किसी भी मौसम में कारगर साबित होते हैं।

भारत की फ्यूचर में आनेवाली मिसाइल्स

भारत अभी मिसाइल टेक्नोलॉजी के तहत बहुत ही तेजी से काम कर रहा है। भारत सरकार 8000 KM मारक क्षमता तक कि मिसाइल बना चुका है। अब जरूरत है 8000 से 15000 KM की रेंज वाली मिसाइल्स की। भारत सरकार अभी वर्तमान में 2 मिसाइल्स पर काम कर रही है जिनकी मारक क्षमता 8000 से 15000 KM तक हो सकती है। जो इस प्रकार से हैं।

1:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम अग्नि  6

2:- इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम सूर्य

इंडियन मिसाइल्स अग्नि 6 :- अग्नि 6 मिसाइल्स की मारक क्षमता 8000 से 12000 km तक बताई जा रही है। यह एक बैलेस्टिक मिसाइल्स है। यह टारगेट को सटीकता से पूरी तरह भस्म करने की ताकत रखती है। अग्नि 6 को जब लॉन्च किया जाता है। तो वह अंतरिक्ष मे चली जाती है। और वंहा से दुगुनी ताकत के साथ रि-एंट्री करके अपने लक्ष्य को भेदने में बहुत ही सक्षम हैं। अग्नि 6 मिसाइल्स से चीन और पाकिस्तान जैसे देश सदमे में है।

इंडियन मिसाइल्स सूर्य :-  सूर्य मिसाइल दुनिया के किसी भी कोने में वार कर सकती है। यह पहली मिसाइल्स होगी जो दूसरे  महादीप तक वार कर सकती है।

इंडियन मिसाइल्स प्रोग्राम क्या है। इंडियन मिसाइल्स से क्यों थर्राता है दुश्मन

दोस्तों इंडियन defance के बारे में  यह पोस्ट आपको केसी लगी। कमेंट में जरूर बताएं। पोस्ट अछि लगे तो सोशल मीडिया और अपने दोस्तों में शेयर अवस्य करना। साथ साथ मे हमारे ब्लॉग को भी सब्सक्राइब जरूर करें। जिससे आनेवाली पोस्ट से आप वंचित न रहें।

धन्यवाद